“तुम्हारा उससे बहुत पुराना रिश्ता है
रिश्ता क्या तुम जहाँ भी जाओ मन में एक
अटूट विश्वास सा होता है वो तुम्हारे साथ है।
तुम्हे नहीं पता की क्या रिश्ता है तुम्हार उनसे ,
बस एक बात हमेशा याद रखना वो हम सभी की सच्ची मंज़िल है।
उनसे ही हम सभी का वजूद है ,वक़्त रहते संभाल जाओ
न जाने फिर क्या होगा या होगा भी की नहीं।”

भगवान आपकी सुनते है:-

  • भगवान आपकी सुनते है इस बात पे कभी शक मत करना , बस फर्क इतना है उन्हें हमे सुनना आना चाहिए।
  • प्रेम समर्पण करुणा भाव ये कुछ ऐसी बातें है जो उनको आपकी तरफ खींच लेती है।
  • हम चाहे लाख बार उसका नाम ले उसमे श्रद्धा और विश्वास नहीं तो उस नाम का कोई फायदा नहीं। आप अगर सिर्फ एक बार उनका नाम लेते है उसमे पूर्ण भाव है तो पूर्ण परमात्मा आपकी पल भर में सुन लेते है।
  • कभी कभी वो परीक्षा बहुत लेता है तो ये बात याद रखना उनकी परीक्षा में बैठने के लिए कुछ योग्यता होनी चाहिए।

भगवान की परीक्षा में बैठने की योग्यता:-

  • जीवन में भगवान के लिए प्रेम होना जरुरी है आपमें करुणा होना जरुरी है।
  • भले आप ऊपर से कितना भी कठोर बन ले लेकिन आपके अंदर कितना कोमल दिल बैठा है भगवान उसको ही देखते है।
  • कहते है सबसे कीमती चीज़ माँ बाप उसको ही देते है जिसमे उसको संभालने की काबिलियत होती है अगर आपमें काबिलियत नहीं तो माँ बाप आपको उस लायक बनाने की सोचते है

कैसे पता चले भगवान की आप पे नज़र है ?

  • अगर आपको भगवान याद है आपकी  उनपे अटूट श्रद्धा है उनपे आपका विश्वास है वो है हमेशा मेरे साथ और मेरा हाथ कभी नहीं छोड़ेंगे।
  • इन सबके बाबजूद आपको बहुत सारी परेशानियों से गुज़ारना पड़ रहा है तो आप खुश हो जाये। भगवान की नज़र आप पर है देर से ही सही लेकिन वो आपकी जरूर सुनेगे
  • शायद अभी हम उस काबिल नहीं की वो अपनी सबसे कीमती चीज़ हमें दे सके। इसलिए हमें वो उस काबिल बना रहे हो।

कभी ये मत सोचना भगवान हमारी नहीं सुनते जब ये ख्याल ए तो बस एक बार दिल की सुनना ” जो एक छोटी से चिड़िया की सुनते है जो एक जानवर की बात सुनते है ,जो एक पेड़ की ,जो फूलो की जो मन में धीरे से कही आवाज़ को भी सुन लेते है तो क्या वो आपके शब्दों को नहीं सुनेंगे। सुनते है पर कभी कुछ कहते नहीं और बिन बोले सब कर जाते है और तुम्हें एहसास तक नहीं होने देते।

God listen us

तेरे मेरे मिलने में केबल इन वक़्त का फैसला है

कैसे करू इस वक़्त से शिकयत क्यूंकि केबल ये वक़्त है जो मुझे आपसे मिलवा सकता है

भगवान सबकी मन की जानते है :-

भगवान को कोई ढोंग और दिखावा पसंद ही नहीं है। मीरा जी जब भगवान कृष्ण के लिए गाती थी तो भगवान बड़े ध्यान से सुनते थे। सूरदास जी जब पद गाते थे तब भी भगवान सुनते थे। और कहाँ तक कहूँ कबीर जी ने तो यहाँ तक कह दिया–

चींटी के पग नूपुर बाजे वह भी साहब सुनता है।

आप सोच सकते है कितनी से चींटी और कितने से नूपुर होंगे फिर वो उसकी भी सुनते है। अरे जब आपको कोई दिल से याद करता है तो आपको पता चला जाता है तो फिर क्या उनको पता नहीं चलेगा जिसने ये पूरा जहा बनाया है।

न जाने कितने ही ऐसा उदाहरण है की वो सबकी सुनते है है बस कोई सुनने वाला होना चाहिए।

  • गजेन्द्र हाथी ने ग्राह से बचने के लिए भगवान को पुकारा
  • द्रौपती जी ने भगवान कृष्ण को पुकारा
  • कबीरदास , तुलसीदास , सूरदास , हरिदास , मीरा बाई और न जाने कितने संत हुए जो भगवान से बात करते थे और भगवान भी उनकी सुनते थे।

जब एक इंसान का भगवान पे शक नहीं हक़ हो जाता है

तो मत पूछो फिर कैसा कैसा चमत्कार हो जाता है।

जो अब तक नहीं हुआ वो हो जाता है

बन के रोशनी वो सारा अँधेरा दूर कर जाता है।

भगवान को जिसने देखा उसने क्या बताया उसके बारे में ?

Leave a Reply