आइये भारतीय सांस्कृतिक/आध्यात्मिक यात्रा का हिस्सा बनें।

Our India

हमारे देश की विशिष्टता।

'विविधता में एकता, के साथ साथ यहाँ की सनातन संस्कृति इसे महान बनाती है और यहां की संस्कृति संपूर्ण विश्व को प्रभावित करती है।

Diversity.

सांस्कृतिक विविधता।

भारत महान सांस्कृतिक विविधता वाला राष्ट्र है। यहाँ पे बहुत सारी अलग भाषा बोली जाती है , अलग पहनवा , कितने ही प्रकार के खानपान और कई सारी ऋतुओ के साथ एक प्रकृति सम्पदा से भरा देश है। उसे करीब से जाने।

Heritage

आध्यात्मिक वंश परंपरा के संतों की सूची।

भारत देश सदियों से कई महान संतो , ऋषियों या जिसे हम आध्यात्मिक गुरु भी कहते है उससे धन्य देश है। ऐसे ही कितने ऐसे संत है जिनकी कई पीढयों से अध्यात्म का प्रचार किया जा रहा है। जो उनके पूर्वजो द्वारा उन्हें विरासत में मिले। जाने उनके बारे में जाने।

samparadaya

सम्प्रदायों की सूची।

संप्रदाय(Samparadaya) के अन्तर्गत गुरु-शिष्य परम्परा चलती है जो गुरु द्वारा स्थापित परम्परा को पुष्ट करती है। सम्प्रदाय कोई भी हो सबकी खोज उस परम सत्य की है। बस रास्ते अलग और उसे मानाने का ढंग अलग है।

Temples

प्रसिद्ध मंदिर

हमारी विरासत का अनोखा खजाना है भारत के मंदिर जो अध्यात्म शक्तियों से भरे है। यु तो ईश्वर हर कण कण में है लेकिन जहाँ किसी भक्त ने या भगवान ने कोई साधना की होती है उस स्थान की शक्तियां कई हज़ार गुना अधिक होती है।

BLOG

आध्यात्मिक ब्लॉग

Shri Krishna Janmashtami Wishes 2020

Shri Krishna Janmashtami Wishes 2020

कृष्‍ण भक्ति की छाँव में दुखों को भुलाओ सब मिलकर प्रेम-भक्ति से हरि गुण गाओ आपको कृष्‍णजन्‍माष्‍टमी की हार्दिक शुभकामनाएं। Shri krishna janmashtami Wishes 2020 janmashtami celebration मुस्कुरा…

Read more
जाने श्री कृष्ण जन्माष्टमी महा महोत्सव के बारे में (janmashtami kab hai)

जाने श्री कृष्ण जन्माष्टमी महा महोत्सव के बारे में (janmashtami kab hai)

श्री कृष्ण जन्माष्टमी(Shri Krishna janmashtami) श्री कृष्ण जन्माष्टमी बहुत प्रसिद्ध उत्सव के रूप में मनाया जाता है। श्रावण-सावन के बाद जब भादों/भाद्रपद अगस्त-सितम्बर महीने आता है तभी…

Read more
श्री बांके बिहारी जी के मंदिर में जन्माष्टमी कैसे मनाई जाती है ?

श्री बांके बिहारी जी के मंदिर में जन्माष्टमी कैसे मनाई जाती है ?

श्री कृष्ण के जीवन से जुड़ा हुआ दिव्य स्थल है मथुरा वृन्दावन और नंदगाव। जब जन्माष्टमी के बात होती है तो सबसे पहले मथुरा-वृन्दावन का नाम सभी…

Read more