श्री सरस्वती माता आरती |goddness-of-knowledge-aarti
श्री सरस्वती माता की आरती

श्री सरस्वती माता की आरती

 श्री सरस्वती माता की आरती(saraswati mata)

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सद्‍गुण वैभवशालिनी, त्रिभुवन विख्याता ॥ जय. ॥

चंद्रवदनि पद्मासिनी, द्युति मंगलकारी। सोहे हंस-सवारी, अतुल तेजधारी ॥ जय. ॥

बाएं कर में वीणा, दूजे कर माला। शीश मुकुट-मणि‍ सोहे, गले मोतियन माला ॥ जय. ॥

देव शरण में आए, उनका उद्धार किया। पैठि मंथरा दासी, असुर-संहार किया ॥ जय. ॥

वेद-ज्ञान-प्रदायिनी, बुद्ध‍ि-प्रकाश करो। मोहाज्ञान तिमिर का सत्वर नाश करो ॥ जय. ॥

धूप-दीप-फल-मेवा पूजा स्वीकार करो। ज्ञानचक्षु दे माता, सब गुण-ज्ञान भरो ॥ जय. ॥

मां सरस्वती की आरती, जो कोई जन गावे। हितकारी, सुखकारी, ज्ञान-भक्त‍ि पावे ॥ जय. ॥

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सद्‍गुण वैभवशालिनी, त्रिभुवन विख्याता ॥ जय. ॥

Leave your comment
Comment
Name
Email