श्री वराह लक्ष्मी नरसिम्हा(Sri Varaha lakshmi Narasimha Swamy Te)

श्री वराह लक्ष्मी नरसिम्हा(Sri Varaha lakshmi Narasimha Swamy Te)

Description

स्थलपुराण के अनुसार, प्रहलाद वो पहल इंसान थे जिन्होंने एक मंदिर का निर्माण किया था। उन्होंने नरसिंह भगवान के हाथों अपने पिता की मृत्यु के बाद इसे पूरा किया। लेकिन उस जीवन-चक्र (कृति युग) के अंत में, मंदिर कहीं खो सा गया और ध्यान न रखने के करना ख़राब होने लगा। यहां तक ​​कि देवता का भी ध्यान नहीं रखा गया।

Sri Varaha lakshmi Narasimha

श्री वराह लक्ष्मी नृसिंह स्वामी मंदिर भगवान विष्णु के भक्तों के बीच बहुत लोकप्रिय है क्योंकि यह मंदिर विष्णु के नौवें अवतार, भगवान नृसिंह को समर्पित है। यह मंदिर पहाड़ी की चोटी पर बनाया गया है जिसे सिंहाचलम या शेर की पहाड़ी कहा जाता है। कहा जाता है कि यह मंदिर तिरुपति मंदिर के बाद भारत का दूसरा सबसे अमीर मंदिर है। यह मंदिर उड़ीसा और द्रविड़ शैली की वास्तुकला के समामेलन को प्रदर्शित करता हैं।

  • इस मंदिर को नृसिंह के अठारह क्षेत्रों में से एक के रुप में गिना जाता है
  • यह धारणा है कि पहले जब कुछ मुस्लिम आक्रमणकारी इस मंदिर को नष्ट करना चाहते थे, तो कुमारनाथ नामक एक धार्मिक कवि ने भगवान नृसिंह से निवेदन किया, तब तांबे की कुछ मक्खियों के एक झुंड़ ने आक्रमणकारियों पर हमला किया और फिर वे सिंहाचलम की पहाड़ियों के पिछे कहीं गायब हो गईं।
  • सिंहाचलम जाने वाली सड़क आसपास की हरियाली के साथ एक सुंदर तस्वीर प्रस्तुत करती है। यह कहने की जरूरत नहीं है कि यह मंदिर जहां खड़ा है वह स्थान कितना अद्भुत है।

Sri Varaha lakshmi Narasimha Swamy timings:-

7:00 am – 4:00 pm
6:00 pm – 9:00 pm